Monday, 31 August 2020

Jal Hai to Kal Hai essay in Hindi | जल है तो कल है निबंध

Jal Hai to Kal Hai essay in Hindi

Jal Hai to Kal Hai essay in Hindi | जल है तो कल है निबंध

जहां जल होता है जीवन वही होता है जल के बिना जीवन का अस्तित्व नहीं है। हमारी धरती ही एक ऐसा ग्रह है जिस पर जीवन संभव हो सका है क्योंकि इस ग्रह पर जल और जीवन को संभव बनाने वाली सभी जरूरी चीजें मौजूद है। किंतु अन्य ग्रह जैसे बुध, शुक्र और मंगल पर जीवन संभव नहीं है क्योंकि इन ग्रहों पर जीने लायक जरूरी चीजें नहीं है जैसे के शुद्ध पानी यह सभी ग्रह किसी बंजर जमीन के समान है क्योंकि वहां जल नहीं मिलता इसलिए जल जीवन के लिए बहुत जरूरी है साथ ही साथ यह वातावरण को भी शुद्ध बनाता है।

जल एक ऐसा जीवनदाई तरल पदार्थ है जिसके स्पर्श से बुरी तरह से बीमार इंसान भी उठ खड़ा हो जाता है और उसे एक नया जीवन प्राप्त हो जाता है पानी के बिना तो किसी भी प्रकार की जीवन की कल्पना ही नहीं हो सकती है यह कुदरत द्वारा दिया गया अनमोल उपहार है जिसे हमें सभी को संभाल कर और इसकी बचत करनी चाहिए पीने, नहाने- धोने सफाई करने बर्फ जमाने में जल की जरूरत पड़ती है पानी का प्रयोग मनोरंजन के लिए, आग बुझाने, होली रंग खेलने आदि में भी होता है नाव चलाने, मछलियां पकड़ने और तैरने आदि में भी जल का इस्तेमाल होता है क्योंकि यदि जल नहीं होता तो मछलियां भी नहीं होती।

Jal Hi Jeevan Hai Essay in Hindi 500 words 

जल की एक एक बूंद सोने के समान कीमती है इसलिए इसे बर्बाद नहीं करना चाहिए जल एक बहुत ही महत्वपूर्ण संसाधन है यह कुदरत में संतुलन बना कर रखता है और जीवन को बनाए रखने में भी सहायता करता है जल चक्र की सहायता से ही बारिश होती है और फिर वही बारिश का पानी नदियों के द्वारा समुंदर में पहुंच जाता है इसलिए जल का दुरुपयोग कर इसे बर्बाद नहीं करना चाहिए किंतु हर एक जल पीने लायक नहीं होता हम पीने के लिए ना तो समुद्र का जल इस्तेमाल कर सकते हैं और ना ही प्रदूषित और गंदा पानी पी सकते हैं हमें सदैव शुद्ध  जल और साफ जल पीने के लिए इस्तेमाल करना चाहिए किंतु पीने योग्य जल की मात्रा बहुत कम है इसलिए हमें जल को प्रदूषित होने से बचाना चाहिए जल प्रदूषण एक गंभीर समस्या बनती जा रही है जल प्रदूषण के रोकथाम के लिए सभी को आगे आने की जरूरत है जल आम तौर पर कुदरत द्वारा दिया गया एक अमूल्य उपहार है जिसे पैदा नहीं किया जा सकता इसलिए इसकी बचत ही सबसे बड़ी मानवता की बचत है क्योंकि जल ही जीवन का आधार है।

पूरे संसार पर दृष्टि डाली जाए तो पता चलता है कि वर्तमान स्थिति में पूरी मानवता के लिए प्राकृतिक आपदाओं की समस्याएं पैदा हो रही है एक तरफ बढ़ती हुई आबादी के साथ पानी की समस्या सबसे बड़ा संकट पैदा कर रही है आज के समय में कुदरती संसाधनों के साथ निरंतर खिलवाड़ किया जा रहा है लगभग विश्व के 70% भाग पर पानी होने के बावजूद भी आज के समय में पीने योग्य जल की कमी है।

अब हमें यह सोचना होगा कि हमारी अगली पीढ़ी को पीने योग्य पानी कितना और किस तरह से मिलेगा यह भी हमें सोचना होगा कि हम सभी को पानी का उपयोग किस तरह से करते हैं यह अत्यंत जरूरी है कि समाज में जल संरक्षण जल प्रदूषण और इसके प्रयोग हेतु जागरूकता लानी जरूरी है इसके अतिरिक्त जल के स्रोत नदी, तलाब तथा नलकूप का संरक्षण भी हमें स्वयं करना होगा।

आज संसार भर के कई देशों में पानी की भारी किल्लत देखने को मिल रही है पानी की कमी के कारण कई स्थानों पर खेती के लिए जरूरी जल नहीं मिल पा रहा है जिस कारण फसल की उपज भी काफी कम हो रही है पूरी पृथ्वी पर जितना पानी है उसका सिर्फ 1 फ़ीसदी ही मानव के पीने योग्य होता है पानी की लगातार बर्बादी के कारण ही जमीन में पानी का स्तर  दिन भर दिन गिरता ही जा रहा है अब लोगों को कुएं में से पानी नहीं मिल पाता क्योंकि जमीन में पानी का स्तर  काफी नीचे जा चुका है, लगातार पेड़ों की होती कटाई के कारण भी पानी का स्तर दिन भर दिन गिरता जा रहा है जमीन बंजर होती जा रही है सूखे पड़  रहा है जिस कारण पर्यावरण को काफी नुकसान पहुंच रहा है यदि जल को इसी तरह बर्बाद किया गया तो वह दिन दूर नहीं होगा जब मानव पानी की बूंद –बूंद के लिए तरसेगा और जल के लिए लड़ाइयां शुरू हो जाएंगी।

Jal ka mahatva essay: पानी का प्रयोग केवल पीने के पानी और खेती के लिए ही नहीं होता बल्कि पानी के बहुत सारे उपयोग होते हैं जैसे बहुत सारे कल कारखानों और इंडस्ट्रीज में पानी बहुत अत्यंत महत्वपूर्ण होता है मानव जाति के लिए जितना पानी जरूरी है जानवरों कीड़े मकोड़ों सभी को जल की उतनी ही जरूरत पड़ती है मकान बनाने से लेकर मोटर गाड़ी चलाने तक सभी चीजों में जल की आवश्यकता अवश्य पड़ती है।

अब विडंबना यह है कि पानी के महत्व को जानते हुए भी मानव इसे लगातार दूषित करने में लगा हुआ है वह इसके महत्व को नहीं समझता लगातार जल प्रदूषण और पानी की बर्बादी हो रही है लगातार दूषित होता है और लगातार पानी की बर्बादी के कारण हमें शुद्ध जल उपलब्ध नहीं हो पा रहा है जिसके परिणाम अच्छे नहीं है जे आने वाले समय के लिए कदापि उचित नहीं है पानी जीवन के अमृत के रूप में समझा जाता है इसलिए जीवन को बचाने के लिए हमें जल का संरक्षण करना ही होगा।
Jal nahi to kal nahi essay in 950 words 


Related articles :
  1. जल ही जीवन है पर निबंध
  2. ग्लोबल वार्मिंग पर निबंध
  3. पर्यावरण संरक्षण पर निबंध

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: