Wednesday, 2 September 2020

परिक्षम का महत्व पर निबंध - Essay on the Importance of Hard work in Hindi

परिक्षम का महत्व पर निबंध - Essay on the Importance of Hard work in Hindi

मानव जीवन का सच्चा सौंदर्य उसके द्वारा किया गया परिक्षम है। इसीलिए जीवन में परिक्षम का विशेष महत्व है। परीक्षम करने वाले इन्सान के लिए कोई भी कार्य कठिन नहीं होता इसी हौंसले की बदोलत ही मानव ने प्रकृति को चुनौती दी है समुन्द्र पार कर लिए , पहाड़ों की उंची -उंची चोटियों पर चढ़ गया , आकाश का कोई भी कोना उसकी पहुँच से बाहर नहीं है। इसीलिए परिक्षम के द्वारा ही सफलता को हासिल किया जा सकता है।

Essay on the Importance of Hard work in Hindi


परिक्षम ही कामयाबी हासिल करने की कुंजी है। विद्यार्थी जीवन में भी इसका  का विशेष महत्व रहता है जो छात्र इसका महत्व समझता है वे ही जीवन में आगे बढ़ता है। कुछ छात्र जीवन में Prisharam का महत्व नहीं समझते वे आराम और सुख -सुविधा जैसी चीज़ों में फस जाते हैं और अपना कीमती समय बर्बाद कर बैठते हैं जिस कारण उनके जीवन की नींव कमज़ोर पड़ जाती है वह उससे आगे नहीं बढ़ पाते।

परिक्षम के द्वारा कमाया गया धन मनुष्य को सुख और शांति प्रदान करता है इसके उल्ट बेईमानी और ठगी से कमाया गया धन मनुष्य को दुखी बनाता है। देखा गया है के कुछ छात्र नकल करके पास होना बेहतर समझते हैं व् परिक्षम से दूर भागते हैं किन्तु इससे बेहतर तो है के छात्र फ़ैल हो जाए क्योंकि सच्चाई जीवन का सबसे बड़ा मूल्य है।

जो लोग भाग्य पर यकीन रखते हैं वो जीवन में अकसर असफ़ल होते हैं उन्हें कुछ नहीं मिलता जो लोग कर्म में यकीन रखते हैं वह जिन्दगी में सदैव सफल रहते हैं।

देखा गया है के कुछ लोग असफलता मिलने पर निराश हो जाते हैं और वे काम वहीँ अधूरा छोड़ देते हैं पर कामयाबी उन्हें प्राप्त होती है जो लगातारअसफलता मिलने पर भी लगे रहते हैं महान वैज्ञानिक थॉमस अल्वा एडिसन ने बल्ब बनाते समय 1000 बार असफ़ल हुए थे यानि के बल्ब बनाते समय हर बार असफ़ल हुए किन्तु उन्होंने फिर भी हार नहीं मानी और लगातार परिक्षम करते रहे और अंत कड़ी मेहतन के बाद उन्हें सफलता हासिल हुई ।

Read Must -आत्म विश्वास पर अनमोल विचार

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: