Tuesday, 1 September 2020

Indian Farmer Essay in Hindi : भारतीय किसान पर निबंध

Indian Farmer Essay in Hindi : भारतीय किसान पर निबंध

भारत एक कृषि प्रधान देश है। भारतीय किसान सालभर कठोर मेहनत करता है और अन्न पैदा करता है और देशवासियों को प्रदान करता है। पर इसके बदले सिर्फ उसे उपेक्षा ही हासिल होती है। जिसे दुनिया अन्नदाता मानती है वह खुद भूखा और अधनंगा रहता है।

Indian Farmer Essay in Hindi

आज का भारतीय किसान दुसरे देशों के किसानों के मुकाबले काफी पिछड़ा हुआ है। जिस कारण किसान को खेती से सबंधित जानकारी का कम होना भारत का किसान ज्यादातर अनपढ़ ही है जिस कारण उसे खेती से सबंधित औजारों की जानकारी नहीं मिल पाती और उसके पास सिंचाई के साधन भी सीमित ही हैं। उसे खेती की सिंचाई के लिए ज्यादातर खेती पर ही निर्भर रहना पड़ता है।

इसके इलावा भारत के किसान को सिर्फ खेती पर ही निर्भर रहना पड़ता है अशिक्षित होने के कारण उसे दुसरे धंधों के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती इसीलिए वे अपना खाली समय व्यर्थ में ही व्यतीत कर देता है।
सरकार ने अगर किसानों के जीवन कुछ सुधार लाना है तो सबसे प्रथम उन्हें खेती से सबंधित शिक्षा देनी होगी जिससे किसानों को खेती के वैज्ञानिक तरीकों से परिचित कराया जा सके। किसान को उचित मूल्य पर नए ढंग के औज़ार तथा बीज और खाद मुहैया कराए जाएं इसके इलावा किसानों को सिंचाई के साधन भी उपलब्ध करवाए जाने चाहिए ताकि उसे बारिश पर ना निर्भर रहना पड़े।
________________________________________

Hindi essay on Indian Farmer -2

किसान का जीवन बहुत मुश्किल होता है वह अपने खेतों में लंबे समय तक काम करता है, वह कठोर मौसम की परवाह किये  बिना काम करता है। चाहे वह सर्दी या गर्मियों या बारिश हो रही है या नहीं, किसान का ध्यान सदैव फसल में ही लगा रहता है किसान बहुत गरीब और निर्धन होते हैं और वे केवल अपनी कड़ी मेहनत की ताकत पर अपना जीवन व्यतीत करते हैं। यद्यपि कृषि नवीकरण तकनीकों ने किसान को बहुत मदद की है, लेकिन इस उपलब्धि का लाभ एक छोटे और गरीब किसान के रूप में नहीं उभरता है, क्योंकि वह अपने खेतों को विकसित करने के लिए पर्याप्त उपकरण भी नहीं खरीदता है।

आज का भारतीय किसान दुसरे देशों के किसानों के मुकाबले काफी पिछड़ा हुआ है। जिस कारण किसान को खेती से सबंधित जानकारी का कम होना भारत का किसान ज्यादातर अनपढ़ ही है उसे खेती से सबंधित औजारों की जानकारी नहीं मिल पाती और उसके पास सिंचाई के साधन भी सीमित ही हैं। उसे खेती की सिंचाई के लिए ज्यादातर खेती पर ही निर्भर रहना पड़ता है।

किसान के बारे में तभी सोचा जाता है जब सुखा पड़ता है जब जा फिर हमें अनाज की कमी हो जाती है भोजन की जरूत सब को पडती है इसके बिना कोई जीवित नहीं रह सकता इसीलिए किसान हमारा अन्दाता है जो हमारे लिए अन्न उगाता है इसीलिए हमारा सभी का कर्तव्य बनता है के हम किसान का सम्मान करें और उसके कार्य को महत्व दें

10 lines on farmer in Hindi

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

1 comment: