Wednesday, 2 September 2020

राष्ट्रीय एकता पर निबंध : National Unity Essay in Hindi

National Unity Essay in Hindi

राष्ट्रीय एकता एक ऐसी भावना है जो किसी भी देश के लोगों में अपने राष्ट्र के प्रति प्रेम एवं भाईचारा प्रदर्शित करती है। राष्ट्रीय एकता देश को एक सूत्र में बांधती है यही एक ऐसी भावना है जो विभिन्न धर्मों , जाति , वेश -भूषा , सभ्यता एवं संस्कृति के लोगों को एक सूत्र में पिरोए रखती है। यहां राष्ट्रीय एकता होती है वहां अनेक विभिन्नताओं के बावजूद भी आपसी मेल -जोल बना रहता है।

National Unity Essay in Hindi


हमारा भारत देश राष्ट्रीय एकता (National Unity) की ऐसी ही जीती जागती मिशाल है। जितनी विभिन्नताएं भारत में पायी जाती हैं उतनी शायद ही किसी और देश में पायी जाती हो क्योंकि भारत विभन्न संस्कृति , साम्पर्दाओं और धर्मों का देश है यहां रहने वाले लोगों का खान -पीन , वेश भूषा एक दुसरे से भिन्न है इतनी विभिन्नताओं के बावजूद भी सभी लोग एक साथ निवास करते हैं सभी राष्ट्रीय एकता के सूत्र में पिरोए होए हैं।
जब तक किसी देश की एकता मज़बूत है तब तक वह उस देश की सबसे बड़ी ताकत है बाहरी शक्तियां किसी भी परिस्थिति में उस देश की शांति को बिगाड़ नहीं सकती।

 किन्तु जब राष्ट्रीय एकता खंडित होती है तभी उसे अनेक मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। यदि हम ख़ुद के इतिहास की तरफ नज़र डालें तो इससे हमें पता चलता है के जब -जब हमारे देश की राष्ट्रीय एकता भंग हुई है तब -तब बाहरी शक्तियों ने उसका फ़ायदा उठाया है हमें उनकी गुलामी की जंजीरों के अधीन रहना पड़ा। इसीलिए देश की एकता , अखंडता और शांति को बनाए रखने के लिए राष्ट्र एकता का होना बहुत ज्यादा जरूरी होता है।

देश में जातिवाद , भाषावाद , क्षेत्रीयवाद , साम्प्रदयाकिता आदि यह सभी राष्ट्रीय एकता की कमजोर कड़ी हैं। इन तत्वों के प्रभाव में आये कुछ स्वार्थी लोग अपने हित के लिए जाति , भाषा और धर्म आदि की दीवारें खड़ी करते हैं जिससे उस देश की एकता बिगड़ जाती है इसके इलावा बाहरी शक्तियां भी उस समय फायदा उठाती हैं जो लोग देश की शांति से ईर्ष्या रखते हैं वे शांति को भंग करने का लगातार प्रयास करते रहते हैं।

राष्ट्रीय एकता (National Unity) एवं शान्ति को बनाये रखने के लिए जरूरी है के राष्ट्रीय एकता के तत्वों जैसे हमारी राष्ट्रभाषा , सविंधान , राष्ट्रीय चिन्हों , समानता आदि पर विशेष ज़ोर देना चाहीये। उन सच्चे देश भगतों के बलिदान की जीवनगाथा को उजागर करें जिन्होंने देश की स्वतंत्रता और शांति के लिए अपने प्राण तक न्योछावर कर दिए। गुरुओं फकीरों के बताए हुए मार्ग दर्शनों पर चलना भी राष्ट्रीय एकता को बढ़ावा देता है।

इससे राष्ट्रीय एकता से देश में होने वाले अपराधों में कमी होगी और इससे देश के संसाधन देश के विकास में लगेंगे ना के देश में होने वाली लड़ाईयों को निपटाने में। इसीलिए हमें देश की स्वतंत्रता को बनाये रखने के लिए एकता की शक्ति को समझना होगा और हमें अपनी तुच्छ सोच को स्वयं से दूर रखना होगा और हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए के हम किसी भी क्षेत्र , जाति ,धर्म जा समुदाय के हो किन्तु उससे पहले हम एक भारतीय नागरिक हैं भारतीय नागरिक ही हमारी असली पहचान है।

कभी ऐसे तुच्छ काम ना करें जिससे देश की शांति और उसकी प्रगति को कोई हानि पहुंचे। हमें अपने राष्ट्र के प्रतीकों एवं अपने देश के सविंधान का सम्मान करें। राष्ट्रीय एकता से लोगों में देश के प्रति प्रेम बढ़ेगा आपसी सम्मान की भावना जागृत होगी जिससे देश –विदेशों में देश की शान और नाम उंचा होगा और देश में रहने वाले लोगों का जीवन खुशहाल होगा।

देश के युवाओं को राष्ट्रीय एकता के महत्व को समझना होगा क्योंकि उनकी एकता ही देश की स्वतंत्रता है।
हर वर्ष 13 अक्तूबर को राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है ताकि ज्यादा से ज्यादा लोगों को इसके प्रति जागरूक किया जा सके


SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: