Thursday, 3 September 2020

Neend Lane ke Upay नींद लाने के देशी उपाय पढ़ें

Healthy Tips to sleep in Hindi दिन के दौरान और विशेष रूप से सोने से पहले आपका व्यवहार आपकी नींद पर एक बड़ा प्रभाव डाल सकता है। 'स्लीप हाइजीन' शब्द स्वस्थ नींद की आदतों की एक श्खला को संदर्भित करता है, जो सोने और सोते रहने की आपकी क्षमता में सुधार कर सकती हैं। ये आदतें संज्ञानात्मक व्यवहार थैरेपी की आधारशिला हैं, जो अनिद्रा की पुरानी बीमारी वाले लोगों के लिए सबसे प्रभावी दीर्घकालिक उपचार है। इसमें तनाव में कमी, विश्राम और नींद के कार्यक्रम के प्रबंधन की तकनीकें भी शामिल हैं। यहां जीवनशैली की कुछ स्वस्थ आदतें दी गई हैं, जो नींद की गुणवत्ता में सुधार करने में दूरगामी साबित होती हैं :

Neend Lane ke Upay

Neend Lane ke Upay
  • सुसंगत नींद के लिए कार्यक्रम विकसित करना।
  • हर दिन एक ही समय पर उठें, यहां तक कि सप्ताहांत पर या छुट्टियों के दौरान भी।
  • सोने का एक समय निर्धारित करें, जो आपके लिए कम से कम 7 घंटे की नींद और सोने की एक दिनचर्या के लिए पर्याप्त हो।
  • ऐसी आदतों का एक सैट बनाना, जो आपके शरीर को यह पहचानने में मदद करें कि यह समय बाकी सब कार्य समाप्त करने का है।
  • उदाहरण के लिए, सोने से 30 से 60 मिनट पहले बिस्तर में कुछ न कुछ पढ़ें या गर्म पानी से स्नान करें।
  • तब तक बिस्तर पर न जाएं, जब तक आपको नींद न आए।
  • यदि आप 20 मिनट के बाद सो नहीं जाते हैं तो बिस्तर से उठ जाएं। बैडरूम को शांत और आरामदेह बनाएं।
  • कमरे को आरामदायक, ठंडे तापमान पर रखें। इयरप्लग या साऊंड कंडीशनर लें। बैडरूम में अत्यधिक शोर आपकी नींद को बाधित कर सकता है।
  • स्क्रीन का समय सीमित करें। शाम को तेज रोशनियों में अपने समय को जितना हो सके कम करें। शाम को हल्का भोजन करें।
  • यदि आपको रात में भूख लगती है तो उन खाद्य पदार्थों का नाश्ता करें, जो आपकी नींद में खलल न डालें।
  • पर्याप्त तरल पिएं ताकि रात में प्यास लगने के कारण जागने से बचा जा सके। झपकी त्याग दें।
  • आपको अपने झपकी सत्र को 30 मिनट तक सीमित करना है और जब आप अच्छी नींद के लिए बिस्तर पर जाने की योजना बनाते हैं तो उसके तथा झपकी के बीच कम से कम 4 घंटे का अंतराल रखा जाना चाहिए।
Gyan Ki Baatein in Hindi ज्ञान की बातें

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: