Wednesday, 2 September 2020

Short Poem on Village in Hindi

Short Poem on Village in Hindi


Short Poem on Village in Hindi

अब भी है मेरे गांव में
पोखर और कुआं आज
भी बरसता है
आषाढ़ में बारिश की बूंद
और मेंढक की टर्र -टर्र की आवाज़
अब भी होती है
खेतों में धान की रोपनी
और लोकगीत गाती
महिलाएं अब भी
लगाए जाते हैं

खेतों में धान के नए पौध
अब भी होती है
मूसलाधार वर्षा मेरे गांव में
और सींचा जाता है
कटोरा -कटोरा अनाज
गांव में होती है अब
भी बारिश - नितेश कुमार सिन्हा
________________________________________-
यह भी पढ़ें -पर्यावरण दिवस पर निबंध

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: