Tuesday, 1 September 2020

Squirrel Essay in Hindi : गिलहरी पर निबंध

Essay on Squirrel in Hindi Language

गिलहरी एक स्तनधारी प्राणी है संसारभर में तकरीवन इसकी 150 जातियां और उपजातियां पायी जाती हैं। इन सभी प्रजातियों की शारीरक सरंचना और आकार में बहुत अधिक फरक होता है। गिलहरी वृक्षों पर रहती हैं और यह भोजन की तलाश में पेड़ों से से नीचे आती हैं और फिर वापिस पेड़ पर लौट जाती हैं। यह वृक्षों पर काफ़ी उंचाई पर अपने घोंसले बनाकर रहती है।

Squirrel Essay in Hindiगिलहरी (Squirrel) दौड़ती बड़ी तेज़ होती हैं यह ख़तरा महसूस होते ही तेज़ी से पेड़ पर चढ़ जाती हैं और एक मीटर की छलांग भी लगा सकती हैं इसके आकार , शरीर के रंग और पूंछ की बनावट आदि में काफी अंतर होता है। ज्यादातर गिलहरी लाल , नारंगी और स्लेटी रंग में होती है। इसकी पूंछ घने और मुलायम रोयों से ढकी होती है। इसके कान लम्बे और नुकीले आकार के होते हैं।

गिलहरी (Squirrel) मुख्य रूप से सर्वाहारी होती हैं यह फ़ल , बेरियां , अनाज और दाने आदि खाती हैं। इसके इलावा यह छोटे -छोटे कीड़े -मकौडों को अपना शिकार बनाती हैं। यह अपने पिछले पैरों के सहारे बैठकर अगले पैरों को हाथों की तरह इस्तेमाल करती है। भारत में गिलहरी की 20 प्रजातियां पायी जाती हैं। इनमें से कुछ प्रजातियां तो ऐसी हैं जो पूरे देश में देखने को मिलती हैं। गिलहरी केवल 6 से 10 वर्ष तक ही जीवित रहती है किन्तु कुछ प्रजातियां इससे भी ज्यादा समय तक जीवित रह सकती हैं।


SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: