Thursday, 3 September 2020

Yoga Day essay in Hindi योग दिवस पर निबंध

Yoga Day essay in Hindi योग दिवस पर निबंध

आज की भाग -दौड़ की जिंदगी में हमारा खान -पीन व रेहन -सहन ऐसा हो गया है के हम अपनी सेहत पर ध्यान नहीं दे पाते हैं जिस कारण तरह -तरह की बिमारियों की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है। ऐसे में सेहत को बनाये रखने  योग जरूरी है। योग  माध्यम से शरीर को मानसिक और शरीरक तौर पर तंदरुस्त रखा जा सकता है।

Yoga Day essay in Hindi


योग एक प्राचीन भारतीय पद्धति है जिसमें शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने का काम करता है। योग के द्वारा न सिर्फ बिमारियों का निदान किया जा सकता है बल्कि बल्कि इसे अपनी जिंदगी में अपनाकर कई प्रकार की शरीरक और मानसिक तकलीफों को भी दूर किया जा सकता है। ये हमारी रोजमर्रा की जिंदगी के लिए बहुत जरूरी है। अब तो योग के प्रति लोगों का विश्वास इतना बढ़ चुका है के डॉक्टर भी अपने इलाज का हिस्सा मानने लगे हैं। उनका मानना है के दवा के साथ -साथ योग करना बहुत जरूरी है।

जिस प्रकार मनुष्य को जीवित रहने के लिए भोजन, नींद, नित्यकर्म एवं उपासनाएं जरूरी हैं, उसी प्रकार सक्रिय, प्रसन्नता भरा जीवन जीने के लिए जरूरी है योग करना। ऋषि मुनियों ने गहरी साधना व चिंतन मन के आधार पर योग साधना का पथ प्रशस्त किया। इसका एक अंग आसन है।

आसनों के अभ्यास से नए जीवन का अनुभव होता है एवं पहले की अपेक्षा शक्ति का अनुभव किया जा सकता है। शारीरक, मानसिक और अध्यात्मिक व्यक्तित्व के विकास में भी आसनों का विशेष महत्व है। आसन केवल एक व्यायाम ही नहीं बल्कि एक पूरी संस्कृति है।

इन फायदों और उद्देश्यों को ध्यान में रखते हुए हर वर्ष 21 जून को योग दिवस पूरे विश्वभर में मनाया जाता है। ता जो ज्यादा से ज्यादा लोगों को योग की महत्ता से जानू कराया जा सके और उन्हें हर प्रकार के तनाव और बिमारियों से मुक्त कराया जा सके।  योग के द्वारा आत्मा का परमात्मा से मेल होता है।

अन्य लेख -
  1. पर्यावरण दिवस पर निबंध
  2. बाल दिवस पर निबंध
  3. पिता दिवस पर निबंध

SHARE THIS

Author:

EssayOnline.in - इस ब्लॉग में हिंदी निबंध सरल शब्दों में प्रकाशित किये गए हैं और किये जांयेंगे इसके इलावा आप हिंदी में कविताएं ,कहानियां पढ़ सकते हैं

0 comments: